For the best experience, open
https://m.uttranews.com
on your mobile browser.
अभी अभीदेशदुनियाबिजनेसप्रौद्योगिकीसाहित्यकुछ अनकहीसिटीजन जर्नलिज़्ममुद्दासंस्कृतिशिक्षाखेलउत्तराखंडअपराधराजनीतिअल्मोड़ाबागेश्वरबेतालघाटबेरीनागभतरोजखानरामनगरहरिद्धारदेहरादूनताड़ीखेतनैनीतालसोमेश्वरपिथौरागढ़हल्द्धानीऊधम सिंह नगररानीखेतकालाढूंगीरूद्रपुरचम्पावतलोहाघाटटनकपुरविविधशांतिपुरीजॉब अलर्टगरुड़झारखंडकाशीपुरदुर्घटनाचमोलीउत्तर प्रदेशजॉबटिहरी गढ़वालसेनाउत्तरकाशीहिमांचल प्रदेशकपकोटचुनावहरिद्वारकोरोनापर्यावरणखटीमाआपदापौड़ी गढ़वालकोटद्वाररूड़कीरूद्रप्रयागAbout UsPrivacy PolicyEthics PolicyFACT CHECKING POLICYCorrections PolicyOwnership & Funding InformationEditorial teamरानीखेतsportखेलकूदमनोरंजन
Advertisement

Almora- जिलाधिकारी ने किया सोमेश्वर क्षेत्र का निरीक्षण

03:34 PM Sep 22, 2022 | editor1
almora  जिलाधिकारी ने किया सोमेश्वर क्षेत्र का निरीक्षण

अल्मोड़ा। 22 सितम्बर, 2022- जिलाधिकारी वन्दना ने आज तहसील अल्मोड़ा/सोमेश्वर अन्तर्गत विभिन्न स्थानों का भ्रमण व विकास कार्यों का निरीक्षण किया। क्षेत्र के गुणकाण्डे पम्पिंग योजना का स्थलीय निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने लघु डाल के अधिकारियों को निर्देश दिये कि पम्पिंग योजना के संरक्षण एवं रख-रखाव के लिये कार्य योजना तैयार कर ली जाय। उन्होंने ग्रामवासियों को दी जा रही पेयजल व्यवस्था की भी जानकारी ली।

Advertisement

इसके पश्चात् जिलाधिकारी ने कनालबूंगा एवं ग्राम वाल्सा में बन रहे अमृत सरोवरों का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि यह केन्द्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है इस कार्य को प्राथमिकता के साथ समय से पूर्ण किया जाय। उन्होंने कहा कि जनपद के 32 गॉवों में इस कार्य योजना को पूर्ण कर लिया गया है। उन्होंने खण्ड विकास अधिकारी को निर्देश दिये कि अमृत सरोवरों के देयकों का भुगतान प्राथमिकता के साथ कर दिया जाय।

Advertisement

जन प्रतिनिधियों व अधिकारियों से वार्ता करती डीए वंदना

जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि ग्राम पंचायतों में खुली बैठकों का रोस्टर तत्काल जारी किया जाय। इस दौरान जिलाधिकारी ने भनरगॉव पेयजल पम्पिंग योजना में अभी तक किये गये कार्यों की जानकारी प्राप्त की। ग्राम प्रधान भनरगॉव एवं क्षेत्रीय जनता ने जिलाधिकारी से मांग की कि इस पम्पिंग योजना से कनालबूंगा, इटौला, गुडकाण्डे, नाकोट, वल्सा, महतगॉव, जाख आदि ग्रामों को भी लाभान्वित किया जाय। जिस पर जिलाधिकारी ने कहा कि इन सभी ग्रामों से अनापत्ति प्रमाण पत्र प्राप्त करने के उपरान्त कार्य को शीघ्र प्रारम्भ किया जाय।

इस दौरान जिलाधिकारी ने ब्रहम सरोवर घाट का भी निरीक्षण किया और वहॉ पर लकड़ी की टाल, खेल मैदान बनाने के प्रस्ताव पर सम्बन्धित अधिकारियों को कार्यवाही करने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने वहॉ पर बने जसुली देवी धर्मशाला का भी निरीक्षण किया और कहा कि इसे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए पर्यटन विभाग के अधिकारी उपयुक्त कार्यवाही करें। ग्राम गागिल-बेह में कृषि उद्यमी सुनील सिंह बिष्ट द्वारा किये जा रहे इन्टीग्रेटेड फार्मिंग को देख और उनके द्वारा किये जा रहे कार्यों की सराहना की। उन्होंने कृषि एवं उद्यान विभाग के अधिकारियों को अमृत सरोवर का सर्वे करने और सूअर रोधी दीवार का प्रस्ताव खण्ड विकास अधिकारी को निर्देश दिये।

Advertisement

इस‌ दौरान उन्होंने क्षेत्र में कार्यरत हिमोत्थान सोसायटी के उपस्थित कार्मिकों से भी वार्ता कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए।

इसके बाद जिलाधिकारी ने स्यूनराकोट पहुॅचकर प्राचीन स्यूनराकोट नौले का निरीक्षण किया और कहा कि इस तरह की धरोहरों को हमें संरक्षित किया जाना चाहिए। उन्होंने पर्यटन अधिकारी को निर्देश दिये कि मुख्य सड़क से प्राचीन नौले तक सी0सी0 मार्ग बनाया जाय।

जिलाधिकारी ने सुमित्रानन्दन पंत के पैतृक घर को भी देखा और कहा कि इसे संरक्षित करने का कार्य किया जाएगा। इस दौरान उन्होंने ऑगनबाड़ी केन्द्र स्यूनराकोट में लोगों की अनेक जनसमस्याओं को भी सुना। इस दौरान उन्होंने ग्राम पंचायत विकास अधिकारी स्यूनराकोट द्वारा ग्राम का रजिस्टर और अभिलेख साथ नहीं लाने पर खण्ड विकास अधिकारी को इनका स्पष्टीकरण लेने के निर्देश दिये। ग्राम सभा कसून पहुॅचने पर ग्रामवासियों द्वारा प्रथम बार जिलाधिकारी के आगमन पर फूल-मालाओं से उनका स्वागत किया। इस दौरान ग्राम वासियों द्वारा जिलाधिकारी को अनेक जन समस्याओं से अवगत कराया गया। जिस पर जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारियों को समस्याओं के जल्द से जल्द निस्तारण करने के निर्देश दिये।

इसके उपरान्त जिलाधिकारी ने पाटिया ग्राम पहुॅचकर पुरानी शैली में बनाये गये होम-स्टे का भी निरीक्षण किया और बनाये गये होम-स्टे की जिलाधिकारी ने काफी प्रंशसा की उन्होंने कहा कि इस तरह के होमस्टे पर्यटन के लिए काफी कारगर सिद्ध होंगे। उन्होंने जिला पर्यटन विकास अधिकारी को निर्देश दिये कि यहॉ पर जितने भी होम-स्टे है उनकी जन समस्याओं के लिए एक कैम्प का आयोजन किया जाय और इनका पंजीकरण पर्यटन विभाग में कराया जाय। निरीक्षण के दौरान जिला पंचायत सदस्य महेश नयाल, पूर्व ब्लॉक प्रमुख रमेश भाकुनी, क्षेत्र पंचायत सदस्य आनन्द डंगवाल, तहसीलदार सोमेश्वर खुश्बू आर्या , हिमोत्थान सोसायटी के परियोजना अधिकारी विजय अधिकारी सहित संबंधित विभागों के अधिकारी व जनप्रतिनिधि शामिल रहे।

Advertisement
×