For the best experience, open
https://m.uttranews.com
on your mobile browser.
अभी अभीदेशदुनियाबिजनेसप्रौद्योगिकीसाहित्यकुछ अनकहीसिटीजन जर्नलिज़्ममुद्दासंस्कृतिशिक्षाखेलउत्तराखंडअपराधराजनीतिअल्मोड़ाबागेश्वरबेतालघाटबेरीनागभतरोजखानरामनगरहरिद्धारदेहरादूनताड़ीखेतनैनीतालसोमेश्वरपिथौरागढ़हल्द्धानीऊधम सिंह नगररानीखेतकालाढूंगीरूद्रपुरचम्पावतलोहाघाटटनकपुरविविधशांतिपुरीजॉब अलर्टगरुड़झारखंडकाशीपुरदुर्घटनाचमोलीउत्तर प्रदेशजॉबटिहरी गढ़वालसेनाउत्तरकाशीहिमांचल प्रदेशकपकोटचुनावहरिद्वारकोरोनापर्यावरणखटीमाआपदापौड़ी गढ़वालकोटद्वाररूड़कीरूद्रप्रयागAbout UsPrivacy PolicyEthics PolicyFACT CHECKING POLICYCorrections PolicyOwnership & Funding InformationEditorial teamरानीखेतsportखेलकूदमनोरंजन
Advertisement

अल्मोड़ा के इस घर में सहेजकर रखी गई हैं स्वामी विवेकानंद की यादें

अल्मोड़ा के इस घर में सहेजकर रखी गई हैं स्वामी विवेकानंद की यादें

अल्मोड़ा। अल्मोड़ा में एक घर ऐसा भी है जहां देश की महान विभूति स्वामी विवेकानंद की यादों को सहेज कर रखा गया है। अल्मोड़ा शहर के खजांची मोहल्ला स्थित लाला बद्री शाह के मकान में यह संग्रह है।

Advertisement

Advertisement

इस भवन में स्वामी विवेकानंद की खड़ाऊं, लैंप, पंखा, दवात, स्वामी विवेकानंद के द्वारा लाला बद्री शाह को लिखे गए पत्र को संभाल कर रखा गया है, जिनको देखने के लिए लोग भारत से ही नहीं बल्कि विदेशों तक से यहां पहुंचते हैं।

बताते चलें कि अल्मोडा के लाला बद्री शाह ने स्वामी विवेकानंद को अपने यहां रुकने का न्योता दिया था जिसके बाद सबसे पहले 1890 में स्वामी विवेकानंद यहां आने पर इस भवन में रुके थे। उसके बाद 11 मई, 1897 में वो जब दोबारा अल्मोड़ा आए थे, तब भी वो यहीं ठहरे थे। स्वामी विवेकानंद का अल्मोड़ा से खासा लगाव रहा था।

Advertisement

Advertisement
×