For the best experience, open
https://m.uttranews.com
on your mobile browser.
अभी अभीदुनियाजॉब अलर्टअल्मोड़ाशिक्षापिथौरागढ़उत्तराखंडकोरोनानैनीतालबागेश्वरअपराधआपदाउत्तर प्रदेशउत्तरकाशीऊधम सिंह नगरकपकोटकालाढूंगीकाशीपुरकोटद्वारखटीमाचमोलीAbout UsCorrections PolicyEditorial teamEthics PolicyFACT CHECKING POLICYOwnership & Funding InformationPrivacy Policysportकुछ अनकहीखेलकूदखेलगरुड़चुनावजॉबचम्पावतझारखंडटनकपुरताड़ीखेतटिहरी गढ़वालदुर्घटनादेहरादूनदेशपर्यावरणपौड़ी गढ़वालप्रौद्योगिकीबेतालघाटबिजनेसबेरीनागभतरोजखानमनोरंजनमुद्दाराजनीतिरानीखेतरानीखेतरूड़कीरामनगररूद्रपुररूद्रप्रयागलोहाघाटशांतिपुरीविविधसंस्कृतिसाहित्यसिटीजन जर्नलिज़्मसेनासोमेश्वरहरिद्धारहरिद्वारहल्द्धानीहिमांचल प्रदेश
Advertisement

अल्मोड़ा: छात्रा को अश्लील मैसेज भेजकर परेशान करता था प्रधानाचार्य, कोर्ट ने सुनाई 5 साल की सजा

08:54 AM Nov 24, 2022 IST | editor1
अल्मोड़ा  छात्रा को अश्लील मैसेज भेजकर परेशान करता था प्रधानाचार्य  कोर्ट ने सुनाई 5 साल की सजा
Advertisement

Almora: The principal used to harass the girl student by sending obscene messages, the court sentenced her to 5 years

अल्मोड़ा, 24 नवंबर 2022- अल्मोड़ा के एक इंटर कॉलेज में छात्रा को परेशान करने वाले प्रधानाचार्य को कोर्ट ने 5 साल की सजा सुनाई है।

Advertisement

Advertisement


छात्रा ने प्रधानाचार्य पर आरोप लगाया था कि बार- अश्लील मैसेज भेजने से वह परेशान हो गई है।


30 सितंबर 2020 को पीड़िता की ओर से भिकियासैंण में राजस्व पुलिस में अश्लील मैसेज भेजने के संबंध में प्रधानाचार्य के खिलाफ तहरीर सौंपी थी। बाद में मामला रेगुलर पुलिस को हस्तांतरित हो गया था।

Advertisement


जॉच के बाद पॉक्सो के तहत दर्ज हुआ था मुकदमा

विशेष लोक अभियोजक भूपेन्द्र जोशी ने बताया कि जांच के बाद पुलिस ने आरोपी प्रधानाचार्य के खिलाफ पॉक्सो अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की। मामले का विचारण विशेष सत्र न्यायाधीश की अदालत में चला। अभियोजन की ओर से न्यायालय में 11 गवाह पेश किए गए।


समाचार पत्रों की खबरों के अनुसार पॉक्सो के एक मामले में विशेष सत्र न्यायाधीश मलिक मजहर सुल्तान की अदालत ने आरोपी अल्मोड़ा जिले के एक इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य प्रमोद चंद्र दुर्गापाल, निवासी सिविल लाइन्स रामनगर जिला नैनीताल को पांच साल तीन माह का सश्रम कारावास और 30 हजार रुपये के अर्थदंड से दंडित किया है। जिला शासकीय अधिवक्ता पूरन सिंह कैड़ा ने भी अभियोजन की ओर से प्रबल पैरवी की।


पत्रावली में मौजूद साक्ष्य का परिशीलन कर न्यायालय ने आरोपी प्रधानाचार्य को धारा -09 में पांच साल का सश्रम कारावास और 20 हजार रुपये के अर्थदंड से दंडित किया। धारा-11 और 12 में तीन वर्ष का सश्रम कारावास और 10 हजार रुपये के अर्थदंड से दंडित किया। अदालत ने अर्थदंड अदा न करने की स्थिति में एक माह के अतिरिक्त कारावास की सजा सुनाई।

Advertisement
Tags :
×